FitnessHealth

विटामिन-बी12 खाद्य पदार्थ

विटामिन-बी12  खाद्य पदार्थ

विटामिन-बी12 जल में घुलनशील एक ऐसा विटामिन है जो तनाव, एसिडिटी आदि के कारण शरीर में शीघ्र अवशोषित हो जाने के कारण शरीर में अधिक समय तक संग्रहीत नही किया जा सकता तथा शरीर में इसकी समुचित आपूर्ति के लिए इसके खाद्य स्रोतों का नियमित रूप से सेवन किया जाना आवश्यक है। विटामिन-बी12 का रासायनिक नाम कोबालिन है। विटामिन-बी12 मानव शरीर में कोशिकाओं के निर्माण एवं उनके विभाजन, डी0 एन0 ए0 के निर्माण तथा प्रोटीन के चयापचय में अहम भूमिका निभाता है। एक स्वस्थ वयस्क व्यक्ति को  प्रतिदिन 2.4 माइक्रोग्राम विटामिन-बी12 तथा स्तनपान कराने वाली महिला को प्रतिदिन 2.4 माइक्रोग्राम विटामिन-बी12 की आवश्यकता पड़ती है। विटामिन-बी12 की कमी के कारण शरीर में  हीमोग्लोबिन कम हो जाता है, पीलिया रोग हो जाता है, शरीर में दर्द, थकान आदि तमाम समस्याएं होने लगती है। इस लेख में विटामिन-बी12 से समृध्द कुछ विशिष्ट खाद्य पदार्थों के बारे में जानकारी दी जा रही है जिसका समुचित अध्ययन करके लाभ उठाया जा सकता है।

बादामः बादाम विटामिन्स तथा पोषक तत्वों का समृध्द भण्डार है जिसका वैज्ञानिक नाम प्रूनस डालकिस है। बादाम विटामिन-बी12 का अति महत्वपूर्ण खाद्य स्रोत है। 100 ग्राम बादाम से 844 कैलोरी ऊर्जा मिलती है। एक स्वस्थ मनुष्य को प्रतिदिन 75 ग्राम बादाम के सेवन से सम्पूर्ण आवश्यक विटामिन-बी12 की दैनिक आपूर्ति हो जाती है।

अण्डाः अण्डा सम्पूर्ण भारत में आसानी से सुलभ है जो विटामिन्स तथा मिनरल्स का भण्डार है। अण्डा विटामिन-बी12 का प्रबल स्रोत है। 100 ग्राम अण्डे में 0.89 माइक्रोग्राम विटामिन-बी12 पाया जाता है जिसमें से अण्डे के सफेद भाग में 0.09 माइक्रोग्राम तथा जर्दी (पीला वाला भाग) में 1.95 माइक्रोग्राम विटामिन-बी12 पाया जाता है।

सार्डिनः सार्डिन एक समुद्री मछली है जो समुद्र में पायी जाती है तथा अत्यन्त पौष्टिक होती है। यह समुद्र की सबसे छोटी मछली है। सार्डिन मे विटामिन-बी12 काफी मात्रा में पाया जाता है। इसमें ओमेगा-3 फैटी एसिड भी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है।

दूधः दूध को सन्तुलित आहार भी कहा जाता है। यह सम्पूर्ण भारत में सुलभ है। दूध विटामिन्स तथा मिनरल्स का समृध्द भण्डार है। दूध विटामिन-बी12 का प्रबल स्रोत है। एक कप दूध में 1.2 माइक्रोग्राम विटामिन-बी12 पाया जाता है।

कस्तूरीः कस्तूरी में विटामिन-बी काफी मात्रा में पाया जाता है। 100 ग्राम कच्चा कस्तूरी में 8.75 माइक्रोग्राम विटामिन-बी12 और 100 ग्राम स्टीम्ड कस्तूरी में 15 मिग्रा0 विटामिन-बी12 पाया जाता है।

मूंगफलीः मूंगफली को गरीबों का काजू तथा सेहत का खजाना कहा जाता है। मूगफली में विटामिन-बी12 तथा विटामिन-ई काफी मात्रा में पाया जाता है। इसके अतिरिक्त इसमे प्रचुर मात्रा में जिकं, आयरन, कैल्शियम तथा फास्फोरस आदि तत्व पाये जाते हैं।

बीफः यह विटामिन-बी12 का प्रबल खाद्य स्रोत हैं जिसमें वहुतायत मात्रा में विटामिन-बी12 पाया जाता है। 100 ग्राम बीफ में 5.9 माइक्रोग्राम विटामिन-बी12 पाया जाता है।

चिकनः चिकन विटमिन-बी12 का काफी अच्छा स्रोत है। चिकन में 0.3 माइक्रोग्राम विटमिन-बी12 पाया जाता है। इसके निरन्तर सेवन से शरीर में हृष्ट-पुष्ट तथा बलवान बनता है।

दहीः दही एक पौष्टिक दुग्ध उत्पाद है जिसका निर्माण दूध से किया जाता है। दही विटामिन-बी12 का काफी अच्छा स्रोत हैं।  निरन्तर नियमित रूप से दही का सेवन करने से शरीर में विटामिन-बी12 की कमी नही होती है। विटामिन-बी12 के अतिरिक्त इसमें खनिज, वसा, प्रोटीन, लोगा, विटामिन-ए, कैल्शियम, कार्बोहाइड्रेट आदि तत्व पाया जाता है।

सोयाबीनः सोयाबीन को सुपरफूड के नाम से भी जाता है। यह एक अत्यन्त पौष्टिक आहार है। सायाबीन में प्रचुर मात्र में विटामिन-बी12 पाया जाता है। इसके अलावा में इसमें सर्वाधिक मात्रो में प्रोटीन पाया जाता है।

बड़ी सीपः बड़ी सीप में विटमिन-बी12 पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है। यह नदी, तालाब, झील आदि जलयुक्त स्थानों पर पायी जाती है। बड़ी सीप की 85 ग्राम मात्रा में 84 माइक्रोग्राम विटामिन-बी12 पाया जाता है। इस प्रकार बड़ी सीप विटामिन-बी12 का सबसे बड़ा स्रोत है।

हेरिंगः हेरिंग एक प्रकार की मछली है जो कि सम्पूर्ण भारत में पायी जाती है। हेरिंग विटामिन-बी12 का अति महत्वपूर्ण स्रोत हैः हेरिंग मछली की 100 ग्राम मात्रा से 13,7 माइक्रोग्राम विटामिन-बी12 मिलती है। इसके सेवन से शरीर में विटामिन-बी12 की कमी नही होती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

AdBlock Detected

Please Consider Supporting Us By Disabling Your AD Blocker