Health

दिल का दौरा पड़ने के 08 महत्वपूर्ण लक्षण

दिल का दौरा पड़ने के 08 महत्वपूर्ण लक्षण

कोरोनरी हार्ट अटैक तब होता है जब केंद्र की मांसपेशी ऑक्सीजनयुक्त रक्त से वंचित हो जाती है। ऑक्सीजनयुक्त रक्त से वंचित होने के कारण हृदय की मांसपेशियां टूट जाती हैं। ज्यादातर कोरोनरी हार्ट अटैक दिल की बीमारी से शुरू होते हैं। यह तब होता है जब कोरोनरी धमनियां रक्त वाहिकाएं जो ऑक्सीजन युक्त रक्त के साथ हृदय केंद्र की मांसपेशियों की पेशकश करती हैं, विभाजन में निहित वसा के क्रमिक निर्माण से संकुचित हो जाती हैं। यदि इस वसायुक्त पदार्थ का थोड़ा सा हिस्सा टूट जाता है, तो यह रक्त के थक्के रुकावट को ट्रिगर कर सकते हैं। यदि यह कोरोनरी धमनी को अवरुद्ध कर देता है तो यह हृदय केंद्र को रक्त की आपूर्ति को कम कर सकता है जिससे हृदयाघात हो जाता है।

कोरोनरी हार्ट अटैक की अधिक संभावना वृद्ध व्यक्तियों में होती है। जब अक्सर पेट में दर्द होता है, तो यह इस बात का संकेत हो सकता है कि कुछ गड़बड़ है। हृदयाघात की संभावना हो सकती है। ऐसी स्थिति में तत्काल चिकित्सक से सम्पर्क कर परामर्श करना आवश्यक हो जाता है।

हार्ट अटैक (हृदयाघात) एक अत्यन्त गंभीर बीमारी है जिसका समय से समुचित इलाज न होने पर जानलेवा साबित होती है। तमाम रोगी ऐसे होते हैं जो कि समय रहते हार्ट अटैक (हृदयाघात) के लक्षण की पहचान नही कर पाते जिसके कारण उन्हें इलाज हेतु चिकित्सक के पास पहुचनें में काफी विलम्ब हो जाता है जिसके कारण समुचित इलाज के अभाव में उनकी मृत्यु हो जाती है। यदि समय से हार्ट अटैक (हृदयाघात) के लक्षण की पहचान हो जाती है तथा बीमारी की प्रारम्भिक अवस्था में ही समुचित उपचार हो जाता है तो यह गंभीर बीमारी पूरी तरह से ठीक हो जाती है।

इस लेख में हार्ट अटैक (हृदयाघात) के एक माह पूर्व से मानव शरीर में होने वाले हार्ट अटैक (हृदयाघात) के 08 महत्वपूर्ण लक्षणों पर प्रकाश डाला जा रहा है जिसकी जानकारी पाठकों के लिए अत्यन्त लाभदायक हो सकती है। ये 08 महत्वपूर्ण लक्षण निम्नलिखित हैंः-

1. अनिद्रा

नींद शुरू करने में समस्या, नींद को बनाए रखने में समस्या तथा पूर्ण नींद लिए बिना सुबह जल्दी उठना अर्थात् अनिद्रा दिल का दौरा (हर्ट अटैक) पड़ने का संकेत हो सकता है। यह समस्या महिलाओं में अधिक होती है। ऐसी स्थिति उत्पन्न होने पर इसे नजर अंदाज न करें तथा बिना किसी विलम्ब के तत्काल चिकित्सक (हर्ट स्पेश्लिस्ट) से सम्पर्क कर परामर्श करें।

2. बिना किसी कारण थकान होना

दिल का दौरा (हर्ट अटैक) पड़ने से महीनों पहले बिना किसी कारण के थकान महसूस होना शुरू होना  दिल का दौरा (हर्ट अटैक) पड़ने का संकेत हो सकता है।  उक्त लक्षण उत्पन्न होने पर बिना किसी विलम्ब के तत्काल चिकित्सक (हर्ट स्पेश्लिस्ट) से सम्पर्क कर परामर्श करना चाहिए।

3. सीने में दर्द होना

सीने में दर्द, या बेचैनी, कोरोनरी हार्ट अटैक का प्रारम्भिक लक्षण है। इसमें सीने हाथी जैसे विशालकाय जानवर के खड़े होने का अहसास होता है, सीने में जकड़न तथा निचोड़ने की अनुभूति होती है। यह स्थिति कुछ मिनटों के लिए उत्पन्न होकर चली जाती है, घण्टे भर के बाद या अगले दिन पुनः उत्पन्न हो जाती है। उक्त लक्षण प्रकट होने पर तत्काल 108 नम्बर पर काल कर के एम्बुलेन्स बुलाएं तथा अपने वाहन से या एम्बुलेन्स से शीघ्रातिशीघ्र चिकित्सक से सम्पर्क कर परामर्श कर समुचित उपचार कराना आवश्यक होता है।

4. पेट में दर्द होना

कोरोनरी हार्ट अटैक के लगभग 50 प्रतिशत मामलों में ब्राइट साइड के आधार पर किसी न किसी तरह के पेट में दर्द होता है। उक्त लक्षण उत्पन्न होने पर बिना किसी विलम्ब के तत्काल चिकित्सक (हर्ट स्पेश्लिस्ट) से सम्पर्क कर परामर्श करना चाहिए।

5. अत्यधिक पसीना आना

बंद धमनियों के आसपास रक्त पंप करने से आपके दिल से अधिक मेहनत लगती है, इसलिए शरीर के तापमान को कम रखने की कोशिश करने के लिए आपके शरीर को सामान्य से अधिक पसीना आता है। यह लक्षण दिल का दौरा (हर्ट अटैक) पड़ने का संकेत हो सकता है। उक्त लक्षण उत्पन्न होने पर बिना किसी विलम्ब के तत्काल चिकित्सक (हर्ट स्पेश्लिस्ट) से सम्पर्क कर परामर्श करना चाहिए।

6. सांस की तकलीफ होना

यदि आपका कोरोनरी हृदय रक्त को सफलतापूर्वक पंप नहीं करता तो आप के फेफड़ों को पर्याप्त आक्सीजन नही मिल पाती जिसके कारण सांस फूलने लगती है। ऐसी स्थिति में मरीज गहरी सांस नही ले पाता है। यह लक्षण कोरोनरी हार्ट अटैक के लगभग 40 प्रतिशत मामलों में होती है। ये लक्षण दिखायी देने पर तत्काल चिकित्सक (हर्ट स्पेश्लिस्ट) से सम्पर्क कर परामर्श करें

7. बालों का झड़ना

सिर के मुकुट से बालों का झड़ना दिल की बीमारी के खतरे का एक और संकेत माना जाता है जो अधिकांशतः पुरुषों में होता है। कुछ महिलाओं में भी  हो सकता है। उक्त लक्षण दिखायी देने पर तत्काल चिकित्सक (हर्ट स्पेश्लिस्ट) से सम्पर्क कर परामर्श करें

8. अनियमित दिल की धड़कन

जब आपके दिल की धड़कन को समन्वित करने वाले {विद्युत} आवेग ठीक से काम नहीं कर पाते हैं, तो  कोरोनरी हृदय बहुत तेज़ी से, बहुत सुस्त या अनियमित रूप से धड़कने लगता है। यह एक फड़फड़ाने या दौड़ते हुए दिल की तरह लग सकता है। इससे महिलाओं में पैनिक अटैक भी हो सकता है। उक्त लक्षण प्रकट होने पर शीघ्रातिशीघ्र चिकित्सक से सम्पर्क कर परामर्श करना आवश्यक होता है।

नोट- यह लेख मात्र जानकारी उद्देश्यों के लिए हैं। इसे चिकित्सक की सलाह के तौर पर न लिया जाय। अपनी स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याओं के लिए तत्काल अपने चिकित्सक से सम्पर्क कर परामर्श करें।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

AdBlock Detected

Please Consider Supporting Us By Disabling Your AD Blocker