Health

अस्थमा और इसके लक्षण

अस्थमा और इसके लक्षण

अस्थमा फेफड़ें से सम्बन्धित एक ऐसी बीमारी है जहां ब्रोन्कियल नलिकाएं जलन के प्रति संवेदनशील होती हैं, जिससे उन्हें सांस लेने में कठिनाई होती है। श्वास नली में सूजन भी हो सकती है। या

अस्थमा एक ऐसी बीमारी है जिसमें-

  1. वायु मार्ग के आसपास की मांसपेशियों का संकुचन हो जाता है,
  2. वायुमार्ग की सूजन के कारण वायुमार्ग में सूजन हो जाती है, और,
  3. वायुमार्ग में अत्यधिक बलगम बनता है तथा श्वास लेनें में कठिनाई होती है।

अस्थमा ज्यादातर पश्चिमी देशों में होता है और बच्चों की प्रमुख पुरानी बीमारी है। अस्थमा, कुछ मामलों में तो ठीक नहीं किया जा सकता है, लेकिन अधिकांश रोगियों के लिए इसे नियंत्रित किया जा सकता है जिससे वे एक सक्रिय जीवन जी सकते हैं।

यदि आपको अस्थमा है, तो इसे प्रबंधित करना आपके जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। अपने अस्थमा को नियंत्रित करने का मतलब है कि उन चीजों से दूर रहना जो आपके वायुमार्ग को परेशान करती हैं। आप तत्काल अपने चिकित्सक से सम्पर्क करके परामर्श करके अपनी नियमित उपचार करायें तो आप का अस्थमा रोग अवश्य नियन्त्रित हो सकता है।

जब कोई व्यक्ति अपने अस्थमा के लक्षणों के बिगड़ने का अनुभव करता है, तो इसे अस्थमा प्रकरण कहा जाता है या गंभीर मामलों में, अस्थमा का दौरा पड़ता है। अस्थमा के दौरे के दौरान, ब्रोन्कियल नलियों के अनुबंध के आसपास की चिकनी मांसपेशियां, जिससे वायुमार्ग खुल जाता है, जिससे हवा कम संकरी हो सकती है। सूजन बढ़ जाती है और वायुमार्ग अधिक सूजन और संकीर्ण हो जाते हैं। वायुमार्ग में कोशिकाएं भी सामान्य से अधिक बलगम बनाती हैं, जो वायुमार्ग को आगे बढ़ाती हैं। वायुमार्ग में परिवर्तन अस्थमा के लक्षणों का कारण बनता है।

अस्थमा के हमले सभी में समान नहीं होते हैं। कुछ में दूसरों की तुलना में बदतर होते हैं। एक गंभीर अस्थमा के दौरे में, वायुमार्ग इतना बंद हो सकता है कि महत्वपूर्ण अंगों तक पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं पहुंच पाता है। यह स्थिति एक मेडिकल इमरजेंसी है। अस्थमा के गंभीर हमलों से लोग मर सकते हैं। अस्थमा के दौरे से पीड़ित व्यक्ति में डूबने जैसी अनुभूति होती है। लंबे समय तक अस्थमा के दौरे पड़ सकते हैं।

अस्थमा के लक्षण

अस्थमा के लक्षण एक रोगी से दूसरे रोगी में भिन्न हो सकते हैं। कुछ लक्षण हल्के होते हैं और कुछ जीवन के लिए खतरा होते हैं। लक्षण भी भिन्न होते हैं कि वे कितनी बार होते हैं। अस्थमा से पीड़ित कुछ लोगों में हर कुछ महीनों में एक बार लक्षण दिखाई देते हैं, दूसरों में हर हफ्ते लक्षण होते हैं, और फिर भी अन्य लोगों में हर दिन लक्षण होते हैं।

अस्थमा के महत्वपूर्ण लक्षण निम्नलिखित हैंः-

1. खाँसी आना

अस्थमा वाले लोगों में खांसी अक्सर रात में या सुबह जल्दी खराब होती है, जिससे उनके लिए सोना मुश्किल हो जाता है।

2. घरघराहट की आवाज होना

जब आप सांस लेते हैं तो घरघराहट एक सीटी या चीखती आवाज होती है।

3. सीने में कसाव महसूस होना

ऐसा महसूस हो सकता है कि कोई व्यक्ति आपकी सीने पर निचोड़ रहा है या बैठा है।

4. सांस लेने में कठिनाई होना

अस्थमा पीड़ित अक्सर कहते हैं कि वे अपनी सांस नहीं पकड़ सकते हैं, या वे सांस लेने में काफी तकलीफ महसूस करते हैं।

5. सांस लेने में कठिनाई होना

फेफड़ों में वायु मार्ग का कम हो जाता है जिसके कारण सांस लेने में कठिनाई होती है।

6. एलर्जी होना

लगातार एलर्जी बनी रहती है।

7. वायुमार्ग में सूजन

अस्थमा रोग में वायुमार्ग में सूजन आ जाती है।

8. गैर विशिष्ट उत्तेजनाएं होना

गैर विशिष्ट उत्तेजनाएं जैसे- ठंडी हवा, वायु प्रदूषण, पराग, धूल, या अन्य जलन के लिए ब्रोन्कियल हाइपर-रिस्पॉन्सिबिलिटी होती है।

9. लंबे समय तक रोने या हंसने से खांसी या घरघराहट होना

अस्थमा रोग में लंबे समय तक रोने या हंसने से खांसी या गलें में घरघराहट हो सकती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

AdBlock Detected

Please Consider Supporting Us By Disabling Your AD Blocker