Medicine

Anabolic Steroid

Anabolic Steroid

एनाबॉलिक स्टेरॉयड की खोज 1930 ई0 में खोजा की गयी थी। एनाबॉलिक स्टेरॉयड प्राकृतिक या सिंथेटिक एंडोक्राइन है, जो शरीर के विभिन्न कार्यों को नियंत्रित करता है। एनाबॉलिक स्टेरॉयड कोएनाबॉलिक-एंड्रोजेनिक स्टेरॉयड भी कहा जाता है। एनाबॉलिक स्टेरॉयड मांसपेशियों और शरीर के द्रव्यमान का निर्माण करने में अत्यन्त महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

1930 ई0 से लेकर अब तक कई चिकित्सा उद्देश्यों के लिए एनाबॉलिक स्टेरॉयड दवाओं का उपयोग किया गया है, जिसमें हड्डी की वृद्धि उत्तेजना, भूख, यौवन और मांसपेशियों के विकास शामिल हैं। उपचय स्टेरॉयड का सबसे अधिक दूरगामी प्रयोग एड्स और कैंसर सहित पुरानी बीमारियों के उपचार में किया जाता है।

वर्तमान समय में एनाबॉलिक स्टेरॉयड दवाओं का उपयोग अक्सर प्रदर्शन और सहनशक्ति बढ़ाने वाली दवाओं के रूप में भी किया जाता है। एनाबॉलिक स्टेरॉयड दवाओं के दुरुपयोग और अति प्रयोग से जुड़े कई दुष्प्रभाव और गंभीर परिणाम हैं। कुछ एनाबॉलिक स्टेरॉयड  दवाएं कई प्रकार के इफेक्ट्स (जैसे- गिडनेस, जल्दी बाल झड़ना, मूड स्विंग्स (क्रोध, अवसाद और आक्रामकता), भ्रम, भय और संदेह की भावनाएं, नींद की समस्या, उल्टी और मतली, कांपना, जोड़ों में दर्द, पीला बुखार, उच्च रक्तचाप, मूत्र प्रणाली में समस्याएं, हृदय की समस्याएं, स्ट्रोक, यकृत की क्षति आदि ) उत्पन्न करती हैं।

एनाबॉलिक स्टेरॉयड दवाएं पुरुषों और महिलाओं को अलग-अलग तरीकों से प्रभावित करती हैं। पुरुषों में प्रमुख “एनाबॉलिक स्टेरॉयड साइड इफेक्ट्स” में स्तन या निप्पल का आकार, बढ़े हुए प्रोस्टेट ग्रंथि, शक्तिहीनता और शुक्राणुओं की संख्या में कमी आदि समस्याएं शामिल है। महिलाओं में प्रमुख “एनाबॉलिक स्टेरॉयड साइड इफेक्ट्स” में शरीर और चेहरे पर बालों का अत्यधिक विकास, स्तन के आकार में कमी, आवाज में कमी और मासिक धर्म की समस्याएं आदि शामिल हैं।

इन एनाबॉलिक स्टेरॉयड साइड इफेक्ट्स ने दवाओं की श्रेणी बना दी है, जो केवल नुस्खे से प्रयोग करने योग्य है, स्थितियों से निपटने के लिए, जो तब होता है जब मानव शरीर कम टेस्टोस्टेरोन मात्रा का उत्पादन करता है जैसे- विलंबित यौवन और नपुंसकता आदि।

1988 ई0 के अमेरिकी संघीय कानून के अनुसार, एनाबॉलिक स्टेरॉयड दवाओं का उपयोग और वितरण अवैध है। इन दवाओं को 1991 ई0 में नियंत्रित पदार्थों की श्रेणी में रखा गया था।

उपचय स्टेरॉयड दवाओं में एक थक्का-रोधी प्रभाव होता है। अन्य दवाओं के साथ संयोजन में अत्यधिक देखभाल के साथ उपयोग किया जाता है, इन दवाओं का एक ही प्रभाव होता है, जिसमें वॉर्फरिन, नॉनस्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लेमेटरी ड्रग्स (एनएसएआईडी) और एस्पिरिन शामिल हैं।

उपचय स्टेरॉयड दवाओं और कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स के एक साथ उपयोग से पैर और टखने की सूजन का खतरा बढ़ सकता है। संयोजन से मुँहासे पैदा होने की बहुत संभावना है। उपचय स्टेरॉयड दवाएं रक्त शर्करा के स्तर को कम करने में भी मदद कर सकती हैं। इन दवाओं का उपयोग इंसुलिन या अन्य एंटीडायबिटिक दवाओं के रोगियों को अत्यधिक सावधानी के साथ किया जाना चाहिए।

यह लेख मात्र जानकारी उद्देश्यों के लिए है। इसे चिकित्सकीय सलाह के तौर पर न लिया जाय। अपनी स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याओं के लिए अपने चिकित्सक से सम्पर्क कर परामर्श अवश्य करें।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

AdBlock Detected

Please Consider Supporting Us By Disabling Your AD Blocker