Self Improvement

स्वयं को बेहतर कैसे बनायें

स्वयं को बेहतर कैसे बनायें 

मानव जीवन के किसी भी क्षेत्र में सफलता के लिए आत्म विश्वास परम आवश्यक है। बिना आत्म विश्वास के सफलता की कल्पना नही की जा सकती। आत्म विश्वास उत्पन्न करने के लिए Self-Improvement परम आवश्यक है। इस प्रकार Self-Improvement मानव जीवन के किसी भी क्षेत्र में सफलता / लक्ष्य हासिल करने की कुंजी है। यहां पर हम आप को कुछ ऐसे उपाय बता रहे हैं जिन्हें आप नियमित रूप से अपना कर आप बेहतर से बेहतर बन सकते हैं। ये उपाय निम्नवत हैः

  1. सुबह जल्द से जल्द उठेः सुबह जल्द से जल्द ब्रम्ह मुहूर्त में उठें, गुनगुना तीन से चार गिलास पानी पीकर शौच क्रिया से निवृत्त होकर योग प्राणायम करें, मार्निंग वाक करें, स्नान करें। ऐसा करने से दिन भर दिल दिमाग दिन भर प्रभुल्लित रहता है जिससे दिन भर कार्य करनें मे मन लगता है जिसके परिणामस्वरूप आप उस दिन अधिक से अधिक कार्य कर लेते हैं तथा आप का आत्मविश्वास बढ़ता है।
  2. सकारात्मक लोगों के सम्पर्क में रहें तथा नकारात्मक लोगों से दूर रहेः जीवन में सफलता प्राप्त करने के लिए सकारात्मक लोगों के सम्पर्क में रहें। सकारात्मक लोगों के सम्पर्क में रहने से आप की सोच सकारात्मक होती है जिसके कारण आप में आत्मविश्वास बढ़ता हैं जो कि सफलता के लिए परम आवश्यक हैं। इसके विपरीत नकारात्मक लोगों के सम्पर्क में रहने से आप का आत्मविश्वास घटता है जिसके कारण आप का आत्मविश्वास घट जाता है जिससे जीवन में लक्ष्य की प्राप्ति नही हो पाती।
  3. प्रतिदिन कुछ नया सीखने की आदत डालेः प्रतिदिन कुछ न कुछ नयी सीख अवश्य लें, इससे आप की सोचने समझने की क्षमता में निरन्तर वृध्दि होती है जिससे आपकी मानसिक शक्ति में विकास होता है जिससे किसी भी क्षेत्र में लक्ष्य हासिल करना सहज हो जाता है।
  4. स्वयं की गलतियों को स्वीकार करते हुए सुधार करेः गलती करना मनुष्य के स्वभाव में निहित है, मनुष्य जान बूझकर गलती नही करना चाहता परन्तु फिर भी गलती हो ही जाती है। आप से जब कोई गलती हो जाए तो आप उसे स्वीकार करें, फिर गलती न होने का संकल्प लें। अपनी गलती सुधारें। ऐसा करने से आप के अन्दर सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है।
  5. गुस्सा न करें तथा धैर्य रखेः जीवन में किसी बात को लेकर गुस्सा न करें, इससे नकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है तथा मानसिक सन्तुलन गड़बड़ हो जाता है, निराशा की भावना का उदय होता है जिसके कारण अपने लक्ष्य से भटक जाते हैं। विषम से विषम परिस्थितियों में स्वयं पर नियन्त्रण रखे, गुस्सा न करें, धैर्य रखें। ऐसा करने से आप का मानसिक सन्तुलन बना रहता है तथा मानसिक शक्ति बढ़ती है और आप दिन-प्रतिदिन सफलता की सीढियां चढ़ते जायेंगे।
  6. Feedback लेने की आदत डालें तथा Feedback अवश्य लेः जीवन में बेहतर बनने के लिए Feedback लेना परम आवश्यक हैं। Feedback लेने की आदत डालें। Feedback दो प्रकार का होता है। Negative Feedback तथा Positive Feedback. Positive Feedback लेने से मंनुष्य को प्रसन्नता तथा सन्तोष मिलता है जो कि सन्तुष्ट करके उसके Progress करने की आदत पर प्रायः विराम लगा देता हैं / लगा सकता है। इसलिए जीवन में कामयाब होने के लिए परम आवश्यक है कि Negative Feedback को सकारात्मक रूप से लेकर दृढ़ता से कार्य करते हुए improvement करें तभी आप स्वयं को बेहतर प्रमाणित कर सकेंगें।
  7. समस्याओं से न घबराएः प्रत्येक व्यक्ति के जीवन में कभी न कभी कोई न कोई समस्या आ ही जाती है, समस्या आने पर लोग घबरा कर कोई न कोई गलत कदम उठा लेते हैं जो भविष्य के लिए घातक होता है। हर समस्या का कोई न कोई हल भी होता है। जीवन में कोई समस्या आने पर आप घबराएं नही, मन को शान्त रख कर उनका समाधान ढूंढ़कर समस्या का डटकर मुकाबला करते हुए समाधान करें।
  8. स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान देः अपने स्वास्थ्य पर नियमित तथा विशेष ध्यान दें क्योंकि स्वस्थ शरीर में स्वस्थ मस्तिष्क होता है जो सकारात्मक सोच एवं सकारात्मक ऊर्जा तथा दृढ़ इच्छा शक्ति देता हैं जिससे आप की मानसिक शक्ति में अभिवृध्दि होती है तथा किसी भी क्षेत्र में सफलता प्राप्त करने के लिए आप बेहतर से बेहतर हो जाते हैं।
  9. मानसिक शक्ति को बढ़ाएः किसी कार्य को सफलतापूर्वक सम्पन्न करने के लिए शारीरिक शक्ति से अधिक मानसिक शक्ति की आवश्यकता पड़ती है। इसलिए अपना मानसिक शक्ति को योग प्राणायाम एवं सन्तुलित आहार लेकर सन्तुलित करें।
  10. डर का सामना करते हुए निडर बनेः मनुष्य के जीवन में डर मनुष्य को आगे बढ़नें से रोकता है। जब तक आप निडर नही होंगें तब तक आने नही बढ़ सकते हैं। इसलिए आप डर को छोड़ें तथा निडर बनें। ऐसा करने से आत्मविश्वास बढता है तथा लक्ष्य हासिल करना आसान हो जाता है।
  11. नई चुनौती लेः जीवन में सन्तोष कर लेने पर ठहराव आ जाता है जिससे बेहतर बनने का मार्ग अवरूध्द हो जाता है। इसलिए आप किसी कार्य को करने के पीछे हानि लाभ के डर को न सोचें। चुनौती लेकर कार्य को सम्पन्न करें। ऐसा करनें से आत्म विश्वास बढ़ता है।
  12. लक्ष्य निर्धारित करेः किसी कार्य को करने के लिए लक्ष्य निर्धारित किया जाना परम आवश्यक है। बिना लक्ष्य निर्धारण के किसी कार्य को सही ढंग से नही किया जा सकता है। इसलिए आवश्यक है कि लक्ष्य निर्धारित करें तथा लक्ष्य को बराबर ध्यान में रखते हुए कार्य करें।
  13. आत्मविश्वास रखें तथा निडर होकर कर्तव्य करेः आत्मविश्वास किसी भी व्यक्ति को जीवन में आगे बढ़ने की प्रेरणा देता है तथा किसी भी कार्य को करने के लिए कर्तव्य पथ पर आने वाले भय को समाप्त कर निडर भाव उत्पन्न करके कर्तव्य करनें के लिए प्रेरित करता है। इसलिए कामयाब होने के लिए परम आवश्यक है कि अपने अन्दर अधिक से अधिक आत्मविश्वास पैदा करें तथा निडर होकर कर्तव्य पथ पर आगे बढ़ें।
  14. आत्मविश्वास घटाने वाली चीजें को बार-बार करेः यह मानव स्वभाव है कि वह कही न कहीं पर किसी न किसी खास कारण से confident feel नही कर पाता जिसके कारण जीवन के किसी न किसी क्षेत्र में कामयाब होने से वंचित रह जाता है अर्थात् कामयाब नही हो पाता। कुछ लोग opposite sex के सामने nervous हो जाते हैं तो कुछ लोगों में stage fear आदि होने के कारण confident feel नही कर पाते।। इसलिए कामयाब इंसान बनने के लिए परम आवश्यक है कि प्रत्येक challenge को beat करो जो activity आप को nervous करती है उसे बार-बार करें। आगे चल कर आप की यही activity आप की ताकत बन जायेगी। लोग उसे स्वीकर करके आप की सराहना करने लगेंगे।
  15. अपने achievements को नोट करेः past achievements किसी भी व्यक्ति को confident boost करनें में काफी मदद करता है। इस लिए कामयाब होने के लिए परम आवश्यक है कि आप अपने past achievements को अपनी डायरी में नोट करते रहें तथा उसकी images को अपने मन में play करते रहें। ऐसा करने से निःसन्देह आप का confident boost होगा तथा आप को जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में कामयाबी मिलेगी।
  16. प्रत्येक कार्य में अग्रणी बनेः मनुष्य करता तो प्रत्येक कार्य है परन्तु उस कार्य को करना ही पर्याप्त नही है, उस कार्य में अग्रणी होना भी परम आवश्यक है। किसी भी कार्य को fully confident के साथ करते हुए उसमें अग्रणी होना परम आवश्यक है। यदि आप स्टूडेन्ट हैं तो अपने चलने तथा बैठने के ढंग में ध्यान दें, नजर न चुराएं, क्लास में आगे की सीट पर बैठें, टीचर की बात को ध्यान से सुनें, जो समझ में न आए निःसंकोच बेझिझक अपने टीचर से तत्काल विनम्रतापूर्वक पूछें तथा टीचर द्वारा किए गये प्रश्न का निःसंकोच बेझिझक होकर उत्तर दें। यहि नियम प्रत्येक कार्य क्षेत्र में अपनाएं। निःसन्देह एक दिन सफलता आप के कदम चूमेगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Would you like to receive notifications on latest updates? No Yes

AdBlock Detected

Please Consider Supporting Us By Disabling Your AD Blocker